राजा भोज

in Blogs

राजा भोज जब 5 वर्ष के थे, तब उनके पिता बहुत बीमार हो गए थे। बहुत उपचार के बाद भी जब राजा की तबीयत में संतोषजनक सुधार न हुआ, तब राजा ने अपने भाई मुंज को बुलवाया और कहा कि मेरा पुत्र भोजराज अभी बहुत छोटा है, इसके राज्य संभालने लायक होने तक, राज्य और…

Keep Reading

विश्व शांति

in Blogs

“विश्व शांति” सबसे दुर्लभ गीत है आज । शांति का मंत्र हम नहीं सहेज पाए। लेकिन प्रकृति ने से बचा रखा है।यह भी अभी गुंजित है, फूलों की सुगंध में, चातक की प्यास में, बगुले की आस में, भोले विश्वास में, सभी भाषाओं से परे सुना और समझा जा सकता है,शांति और मौन का गीत।…

Keep Reading

ऐ खुदा!

in poems

मेरे स्वप्न अब भी है राह में , और मंजिलें इंतजार में, ऐ खुदा! मुझे तू नवाज दे, मेरे पंख को परवाज दे,   मैं किसी के स्वप्न को जी सकूँँ, किसी और का दर्द भी पी सकूंँ, मुझे ऐसी करुणा अपार दे, जीवन का अर्थ निखार दें,   यह आत्मा की पुकार है ,…

Keep Reading

राम के ईश्वरीय गुण

in Blogs

राम का जन्म एक राज कुमार के रूप में हुआ, जब उनका राजतिलक होना था, उसी समय घटनाक्रम कुछ ऐसे बदले की उन्हें पत्नी के साथ जंगल में जाकर रहना पड़ा| जहाँ उनकी पत्नी का अपहरण भी हो गया और पत्नी को मुक्त कराने के लिए उन्हें युद्ध भी लड़ना पड़ा । फिर जब पत्नी…

Keep Reading

गांँव वाली चाची

in Blogs
KAVITANAAMA

आज बरसों पीछे मन भाग रहा है,तो सोचा उन बीते स्वर्णिम पलों से डायरी के पन्ने स्याह कर लूँ। विवाह के 2 वर्ष पश्चात में अपने पति और छः माह की बिटिया के साथ लमही रहने के लिए आ गई, फलों का बगीचा और सामने फूलों और हरी घास के लॉन वाला हवेली नुमा घर मुझे…

Keep Reading

अकथ

in Blogs

जीवन की देहरी पर सोलहवाँ बसंत उतरा और अचानक ही मधु की दुनिया के सारे रंग गुलाबी हो गए । सपनों का सावन आंखों में ठहर गया,खुशबू का मौसम सांसों में पैठ गया, दिन तितली हो गए, और जीवन अनूठा प्रेम राग। किसे भूलती है, वह पहली दस्तक, वह पहली आहट, वह प्रथम आकर्षण की…

Keep Reading

1 2 3 8
Go to Top